Corona virus क्या है? क्या यह एक से दूसरे इंसान में फैलता है !

मेडिकल जगत में आजकल चर्चा और चिंता का विषय बना हुआ है करॉन वायरस। इस वायरस के तेजी से फैलने के केस सामने आ रहे हैं, जिससे चिकित्सा विशेषज्ञों के बीचा चिंता बढ़ रही है। लगातार इस वायरस से जुड़ी नई जानकारियां सामने आ रही हैं। जिनमें इस वायरस के कारण होनेवाली दिक्कतें और लक्षण जैसी जरूरी बातें भी शामिल हैं। आइए, जानते हैं इस वायरस के कारण होनेवाली बीमारी और उसके प्रभाव के बारे में…

करॉन वायरस का प्रकोप फिल्हाल एशिया में ही देखने को मिल रहा है। खासतौर पर चाइना में इस वायरस का बड़ा प्रकोप फैला हुआ है। यही वजह है कि भारतीय सरकार ने चाइना से आनेवाले सभी यात्रियों की मेडिकल चांज के आदेश दे रखे हैं। इन यात्रियों का हवाई अड्डों और बंदरगाहों पर थर्मल स्कैनर के जरिए शारीरिक परीक्षण किया जा रहा है।


इस वायरस दिसंबर लास्ट और इस साल की शुरुआत में चर्चा का विषय बना। चाइना में इस साल अब तक इस वायरस के कारण चार मौत होने की पुष्टि की गई है। जबकि इस वायरस में आनेवाले लोगों की संख्या कहीं अधिक है और लगातार बढ़ती जा रही है। यहां जानें, करॉन वायरस से जुड़े सभी जरूरी सवाल और उनके जवाब भी…

  1. कहां से फैलना शुरू हुआ करॉन वायरस?
    जैसा कि हमने ऊपर भी बताया कि करॉन वायरस के मामले सबसे पहले चीन में देखने को मिले। दरअसल, चीन के हुवेई प्रांत के वुहान शहर में इसका असर सबसे पहले और सबसे घातक रूप में देखने को मिला। चाइना के अलावा थाईलैंड, सिंगापुर, जापान में भी करॉन वायरस के मरीज मिल रहे हैं। हाल ही इंग्लैंड में भी एक फैमिली के इस वायरस की चपेट में आने की जानकारी सामने आई है।
  2. करॉन वायरस क्या है?
    वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार, यह वाइरस सी-फूड से जुड़ा है और इसकी शुरुआत चाइना के हुवेई प्रांत के वुहान शहर के एक सी-फूड बाजार से ही हुई मानी जा रही है। खास बात यह है कि ये वायरस ना केवल इंसानों बल्कि पशुओं को भी अपना शिकार बना रहा है।
  3. क्या करॉन वायरस एक से दूसरे इंसान में फैलता है?
    करॉन वायरस को लेकर हर रोज नई-नई अपडेट्स आ रही हैं। पहले इस वायरस के बारे में कहा गया था कि यह इंफेक्टेड सी-फूड खाने से ही फैलता है। जबकि हालही डब्ल्यूएचओ ने इस बात की पूरी संभावना जताई है कि यह वायरस बेहद परिवार के लोगों में एक से दूसरे को फैल सकता है।
  4. करॉन वायरस के लक्षण क्या हैं?
    करॉन वायरस से संक्रमित व्यक्ति को सबसे पहले सांस लेने में दिक्कत, गले में दर्द, जुकाम, खांसी और बुखार होता है। फिर यह बुखार निमोनिया का रूप ले सकता है और निमोनिया किडनी से जुड़ी कई तरह की दिक्कतों को बढ़ा सकता है।
  5. करॉन वायरस का इलाज क्या है?
    अभी तक सीधे तौर पर करॉन वायरस पर अटैक करनेवाली कोई वैक्सीन मार्केट में नहीं आई है। लेकिन इसके लक्षणों के आधार पर डॉक्टर्स इसके इलाज में दूसरी जरूरी मेडिसिन्स का उपयोग कर रहे हैं। साथ ही साथ इसकी वैक्सीन तैयार करनेपर भी काम चल रहा है।
  6. करॉन वायरस से बचने के तरके क्या हैं?
    – पहली और अहम बात है कि जब तक करॉन वायरस का प्रकोप शांत नहीं हो जाता, जितना हो सके सी-फूड से दूर रहें। a) साफ-सफाई करॉन वायरस से बचने का दूसरा और जरूरी तरीका है। कहीं भी बाहर से आने या कुछ भी खाने से पहले अपने हाथ अच्छी तरह साफ करें। सिर्फ पानी से नहीं बल्कि साबुन या हैंडवॉश से धोएं। b) अपने साथ हैंड सेनिटाइजर हमेशा रखें। जहां पानी से हाथ धोने की व्यवस्था ना हो, वहां इसका इस्तेमाल करें। c) पब्लिक ट्रांसपोर्ट का यूज करने के बाद हाथ साफ किए बिना उन्हें अपने चेहरे और मुंह पर ना लगाएं। d) बीमार लोगों की देखभाल के दौरान अपनी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखें। अपनी नाक और मुंह को कवर करके रखें। उनके इस्तेमाल किए हुए बर्तन और कपड़ों का उपयोग करने से बचें ।
  7. क्या करॉन वायरस से मृत्यु हो सकती है?
    करॉन वायरस अगर लंबे समय तक अपना प्रभाव बनाए रखने में सफल हो जाए या घातक स्तर पर पहुंच जाए तो जान के लिए खतरा पैदा कर सकता है। यह इस वायरस का दूसरी बार प्रकोप है और इस दौरान दुनियाभर में 30 से अधिक मौत होने की खबरें आ रही हैं।